शेयर बाजार की मूल बातें

ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस क्या है

ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस क्या है
What is Target - Stop loss in share market | Stop Loss और Target क्या होता है ? Reviewed by Share Market Help on मार्च 03, 2021 Rating: 5

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है – What is intraday trading 2022

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है ? जब आप किसी कंपनी के शेयर को खरीदते हो और उससे अच्छा रिटर्न मिलने के बाद बेच देते है लेकिन इंट्राडे ट्रेडिंग इन्वेस्टिंग का एक ऐसा जरिया है जिसमें आपको ज्यादा दिनों का इंतजार नहीं करना पड़ता है बल्कि आप एक ही दिन में मार्केट से प्रॉफिट निकाल सकते है इंट्राडे ट्रेडिंग के अंदर आपको एक ही दिन मे किसी कंपनी के शेयर को खरीदना है और उसी दिन बेच देना है इसे ही इंट्राडे ट्रेडिंग कहते हैं अब चलिए मैं आपको बताता हूं की इंट्राडे ट्रेडिंग के अंदर आपको कुछ महत्वपूर्ण पहलुओं को ध्यान में रखना चाहिए

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस क्या है है – what is intraday trading

यह शेयर मार्केट से पैसे कमाने का एक ऐसा तरीका है जिसमें आपको सप्ताह, महीना और सालों का इंतजार नहीं करना पड़ता है बल्कि आपको एक ही दिन में प्रॉफिट मिल जाता है दोस्तों आप भी इंट्राडे ट्रेडिंग से पैसा कमाना शुरू कर सकते हैं

लेकिन इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए आपको कुछ खास बातों का ध्यान रखना चाहिए वरना आपका पैसा डूब भी सकता है वह कौन से महत्वपूर्ण पहलू है जिनका आपको ध्यान रखना चाहिए चलिए मैं आपको बताता हूं लेकिन इससे पहले जानते हैं कि इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें – how to do intraday trading

Intraday Day Trading करने के लिए आपके पास एक डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट होना आवश्यक है इसी के ऊपर आप इंट्राडे ट्रेडिंग करने वाले हैं इसके साथ ही आपके पास एक लैपटॉप या पर्सनल कंप्यूटर होना आवश्यक है जिसके ऊपर आपको इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक को एनालिसिस करना पड़ता है वैसे यह काम आप मोबाइल से भी कर सकते हैं लेकिन कंप्यूटर या लैपटॉप हो तो सोने पर सुहागा हो जाएगा,

इसके अलावा आपके पास एक अच्छा इंटरनेट कनेक्शन होना आवश्यक है अब आपको इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए 9:15 से 3:30 तक का समय मिलता है इसी समय के अंदर आपको किसी एक कंपनी के स्टॉक को खरीदना और बेचना होता है,

इंट्राडे शेयर कैसे खरीदें – how to buy intraday shares

यह तो समझ लिया की इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है, अब जानते हैं कि आपको इंट्राडे के लिए शेयर खरीदने के 1 दिन पहले कुछ शेयर का चुनाव करना होता है,

अब आपको इन चुने गए शेयर को एनालिसिस करना होता है जैसे कि टेक्निकल एनालिसिस जिसमें यह शेयर कहां पर सपोर्ट और रेजिस्टेंस ले रहा है कहां पर शेयर की ट्रेंडलाइन टूट रही है आदि ऐसी कई सारी बातें टेक्निकल एनालिसिस के अंदर आती हैं यह एनालिसिस आपको इंट्राडे के लिए शेयर का चुनाव करते समय करना होता है

आप न्यूज़ पढ़ कर जैसे कि कौन सी कंपनी को अच्छा प्रॉफिट हुआ है या किसी कंपनी से संबंधित कोई अच्छी न्यूज़ आती है ऐसे शेयर को आप अपनी वॉच लिस्ट में ऐड कर सकते हैं इन बातों का ध्यान रखकर आप इंट्राडे ट्रेनिंग के लिए शेयर का चुनाव कर सकते हैं

इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे

यहां से आप रोज पैसा कमा सकते है

No Risk

इंट्राडे ट्रेडिंग के अंदर जब मार्केट बंद हो जाता है उसके बाद आप को नुकसान नहीं हो सकता क्योंकि मार्केट के बंद होने से पहले यदि आप अपनी शेर को बेच देते हैं या फिर नहीं भी बेचते हैं तो भी आपका शेयर ऑटोमेटिक बिक जाता है जिससे आपको बाद में कोई भी नुकसान नहीं हो सकता है

डे ट्रेडिंग के अंदर आपको बहुत ज्यादा समय का इंतजार नहीं करना पड़ता है क्योंकि यहां पर आप एक ही दिन में शेयर को खरीदते और बेच भी देते है हैं और उसी दिन अपना मुनाफा मार्केट से निकाल लेते हैं

आप इंट्राडे ट्रेडिंग की कम पैसों के साथ भी शुरुआत कर सकते हैं क्योंकि यहां पर आपको ज्यादा समय का इंतजार नहीं करना पड़ता है

इंट्राडे ट्रेडिंग के नुकसान – Advantages of intraday trading

  • आपको बिना सीखें इंट्राडे ट्रेडिंग नहीं करनी चाहिए क्योंकि यहां पर आपके पैसे के डूबने का खतरा बना रहता है
  • इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय आपको अपने खुद पर कंट्रोल करना भी आना चाहिए क्योंकि यहां पर जब आपके टारगेट से ऊपर शेयर की प्राइस जाती है तो वहां पर ऑटोमेटिक लालच आ जाता है जिसके कारण आप उस शेयर से नहीं निकल पाते है
  • आपको इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए अच्छे शेयर का चुनाव करना आना चाहिए वरना आप किसी गलत कंपनी के शेयर में फंस सकते हैं
  • दूसरों की टिप्स पर आपको इंट्राडे ट्रेडिंग नहीं करनी चाहिए वरना आपको काफी ज्यादा नुकसान उठाना पड़ सकता है

इंट्राडे ट्रेडिंग नियम – intraday trading rules

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपके पास 1 दिन पहले ही एक ट्रेडिंग प्लान होना आवश्यक है जिसके अंदर आपको उन शेर की लिस्ट बनानी होती है जो आप दूसरे दिन ट्रेड करने वाले है इसके साथ ही आप उन शेयर के अंदर कब एंट्री लेने वाले हैं और कब निकलने वाले हैं यह सारा कुछ लिखा हुआ होना चाहिए

प्रॉफिट निकालना

आपको इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय एक बार प्रोफिट होने के बाद उसे निकालना आना चाहिए क्योंकि कई सारे लोग एक बार प्रोफिट होने के बाद भी लालच के कारण उस शेयर से नहीं निकल पाते हैं और उनको नुकसान हो जाता है इसलिए हमेशा जो प्रॉफिट हो रहा है उसे लेना सीखें

स्टॉप लॉस

आप अपना ट्रेंनिंग प्लान बनाते समय जिन शेयर का चुनाव करते हैं उन शेयर का एक निश्चिंत स्टॉपलॉस भी डिसाइड करें क्योंकि यदि वह शेयर आप के बनाए हुए प्लान के अनुसार नहीं चला तो आपका स्टॉप लॉस आपको ज्यादा नुकसान होने से बचा लेगा

ओवरट्रेडिंग

जब आपको एक बार इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय प्रॉफिट हो जाता है तो आप ज्यादा ट्रेड नहीं करें क्योंकि इससे आपका कमाया हुआ पैसा भी आपके हाथ से निकल जाता है और कई बार तो कमाए हुए के साथ आपकी कैपिटल का भी पैसा लॉस में कन्वर्ट हो जाता है इसलिए आप ज्यादा ओवरट्रेडिंग नहीं करें

अपने आप पर काबू

दोस्तों अधिकांश लोगों के साथ इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय खुद पर कंट्रोल नहीं रह पाता है क्योंकि जब उनको किसी शेयर की कीमत बढ़ती हुई नजर आती है तो वह सोचते हैं कि यह और ऊपर जाएगा जिसके कारण वह उस शेयर से नहीं निकल पाते हैं इसके बाद अचानक वह शेयर नीचे गिर जाता है और उनको नुकसान हो जाता है

ऐसे ही जब कोई शेयर नीचे गिरता है तो वह लोग सोचते हैं कि यह इससे ज्यादा नीचे नहीं जाएगा जिसके कारण रहे अपना स्टॉप लॉस लगाने के बाद भी उस शेयर से नहीं निकल पाते हैं और वह शहर और नीचे चला जाता है जिसके कारण उनको काफी ज्यादा नुकसान उठाना पड़ता है तो आपको इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय सबसे ज्यादा खुद पर काबू पाना आना चाहिए

4 thoughts on “इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है – What is intraday trading 2022”

Thanks for your marvelous posting! I truly enjoyed reading it,
you can be a great author. I will always bookmark
your blog and definitely will come back sometime soon. I want to encourage yourself to continue your great job, have a
nice afternoon!

कम जोखिम में ज्यादा फायदा पाने का आसान तरीका है ऑप्शन ट्रेडिंग से निवेश, ले सकते हैं बीमा

यूटिलिटी डेस्क. हेजिंग की सुविधा पाते हुए अगर आप मार्केट में इनवेस्टमेंट करना चाहते हैं तो फ्यूचर ट्रेडिंग के मुकाबले ऑप्शन ट्रेडिंग सही चुनाव होगा। ऑप्शन में ट्रेड करने पर आपको शेयर का पूरा मूल्य दिए बिना शेयर के मूल्य से लाभ उठाने का मौका मिलता है। ऑप्शन में ट्रेड करने पर आप पूर्ण रूप से शेयर खरीदने के लिए आवश्यक पैसों की तुलना में बेहद कम पैसों से स्टॉक के शेयर पर सीमित नियंत्रण पा सकते हैं।

इंट्राडे ट्रेडिंग में आज इन शेयरों से बनेगा शानदार पैसा, सिर्फ 6 घंटे में मिलेगा बेहतर रिटर्न

Linkedin

शेयर बाजार में आज अच्छी तेजी देखने को मिल रही है. निवेशक आज ट्रेडिंग के दौरान अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं. ज़ी बिज़नेस की रिसर्च टीम ने आज आपके लिए चुनकर 20 शेयर निकाले हैं. इसमें से आपको 10 शेयरों में खरीदारी करनी हैं. वहीं कुछ शेयरों में बिकवाली करके चलें. इसमें आपके लिए SBI, ONGC, Oil India, Mastek, Axis Bank और MCX के शेयर्स शामिल हैं तो पैसा लगाने से पहले जान लें कि कितने रुपए का स्टॉपलॉस लगाएं और कितने रुपए का टारगेट प्राइस रखें.

Stock Market Trading Tips: शेयर बाजार में ट्रेडिंग कर आप भी ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस क्या है हो सकते हैं मालामाल, अपनाइए ये चार सूत्र

Stock Market Trading Tips: शेयर बाजार में ट्रेडिंग कर आप भी हो सकते हैं मालामाल, अपनाइए ये चार सूत्र

नई दिल्‍ली, समीत चवान। किसी भी अन्य कौशल की तरह, सफल ट्रेडिंग की कला को अभ्यास ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस क्या है और निरंतर सतर्कता के साथ सीखा जा सकता है और इसमें बेहतर बना जा सकता है। अक्सर अमेच्योर्स को लगता है कि ट्रेडिंग तुक्के से की जाती है। बेशक, यह केवल निराशा लाती है और अंततः ऐसे लोग अपनी नगदी का नुकसान कर लेते हैं और बाद में कम रिटर्न देने वाले बचत के अन्य तरीकों को अपनाते हैं। हालांकि, इस खेल के कुछ क्लासिक नियमों का पालन कर कोई भी अमेच्योर अपनी रैंक और लाभप्रदता बढ़ा सकता है।

डाटा में हमारा भरोसा

शुरुआती लोगों के रूप में यह जानना बेहद जरूरी है कि ट्रेडिंग जुआ नहीं है। यह सब बाजार और वह कैसे आकार लेता है, यह जानना है। आपको बाजार में बुनियादी प्रवीणता विकसित करने की आवश्यकता है ताकि आप केवल स्मार्ट इन्वेस्ट करें। एक ट्रेडर के रूप में आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपकी ट्रेडिंग कॉल पर्याप्त डाटा और उचित रिसर्च के साथ की गई हो। आप फुल-सर्विस ब्रोकिंग फर्म्स से मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं जिनके पास इसके लिए समर्पित विश्लेषक होते हैं। आज हम तकनीक से संचालित रोबो-सलाहकारों को उभरते देखकर एक बड़े बदलाव का भी गवाह बन रहे हैं। उद्योग के प्रमुख एक अरब से अधिक डाटा बिंदुओं का विश्लेषण करते हैं। ऐसे में अपने निवेश के साथ आगे बढ़ने के लिए खुद को एक रोबो-सलाहकार के साथ एनरोल करने पर विचार करें।

अपने ‘फ्यूचर’ और ‘ऑप्शंस’ के बारे में जानें

व्यापार में कदम रखते समय जितना हो सके बाजार के बारे में पता लगाने का प्रयास करें। आपको उन सभी विकल्पों को जानना होगा जो उपलब्ध हैं। अगर आपको लगता है कि ट्रेडिंग सिर्फ स्टॉक्स को उनके बाजार मूल्य पर ‘खरीदना’ और ‘बेचना’ ही सबकुछ है, तो इसके अलावा भी बहुत कुछ है। मार्जिन ट्रेडिंग के माध्यम से आप जितना खरीद सकते हैं उससे अधिक स्टॉक भी खरीदा जा सकता है। इसे हम डेरिवेटिव मार्केट कहते हैं। हालांकि, जब बात डेरिवेटिव्स की आती है, तो किसी को इसमें कूदने से पहले अच्छे और बुरे पक्ष को समझना आवश्यक है। संबंधित जोखिम नाटकीय रूप से बढ़ जाते हैं।

सोच-समझकर जोखिम लें और पैसे के लिहाज से समझदार बनें!

दीवार पर साफ लिखा है- केवल उतनी ही राशि को ट्रेड करें जिसे आप खोने को तैयार हैं। हालांकि, यदि आपने किसी से पैसा उधार नहीं लिया है या ट्रेडिंग के लिए भविष्य के लिए बचत की गई ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस क्या है बचत से पैसे नहीं निकाले हैं तो आप कुछ आवश्यक जोखिम लेने के लिए बेहतर तरीके से सुसज्जित होंगे। उसी समय ट्रेडर्स को अनावश्यक जोखिम लेने के रोमांच का शिकार नहीं होना चाहिए - विशेष रूप से डे-ट्रेडिंग में। यहां तक कि अगर आपके दांव हार रहे हैं, जो लगभग हर व्यापारी के लिए एक कड़वा सच है, तो आपको लगातार ट्रेडिंग कैपिटल की रक्षा करने और ट्रेडिंग व्यवसाय में रहने की कोशिश करनी चाहिए।

अनुशासित रहें और स्टॉप लॉस का इस्तेमाल करें

जैसे-जैसे कोई व्यक्ति निवेश पर आगे बढ़ता है और उसका अंतर्ज्ञान बढ़ता है, तब एक ऐसा बिंदु भी आता है जहां पैसा कमाने के लिए ट्रेंडिंग या सिर्फ अंतर्ज्ञान को सही साबित करने के बीच की सीमाएं धुंधली प्रतीत होती है। और यदि ट्रेडर्स ट्रेडिंग के माध्यम से केवल अपने अंतर्ज्ञान पर मुहर लगाने की भावना से प्रेरित होते हैं, तो यह उन्हें उनके निवेश कैरियर के अंत की ओर ले जाता है। इसी के संदर्भ में स्टॉप लॉस का उपयोग करना ट्रेडिंग में बहुत आवश्यक अनुशासन है। यह समर्थन स्तर से नीचे ट्रेडिंग मूल्य है (जहां से शेयर अपने अगले समर्थन स्तर तक गिरेगा)। क्या किसी शेयर का मूल्य ‘स्टॉप लॉस’ सीमा तक पहुंच गया है, तो उन सभी शेयरों को बेच दिया जाएगा, ताकि आपको ज्यादा नुकसान होने ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस क्या है से बचाया जा सके।

अंत में, हमेशा यह याद रखना चाहिए कि ट्रेडिंग के लिए उच्च स्तर की रणनीति की आवश्यकता होती है। पूर्वोक्त अभ्यासों के माध्यम से कोई भी व्यक्ति रणनीति को विकसित और सुदृढ़ कर सकता है। एक ट्रेडर का अंतिम लक्ष्य पैसा कमाने और नुकसान को कम से कम रखना होना चाहिए, न केवल जब बाजार तेजी से ऊपर जा रहा हो, बल्कि उसे ऐसी रणनीति के साथ सामने आना चाहिए कि वह लंबी अवधि के लिए बाजार में अपरिहार्य परिवर्तनों का सामना कर सके।

(लेखक एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड में चीफ एनालिस्ट, टेक्निकल और डेरिवेटिव्स हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।)

What is Target - Stop loss in share market | Stop Loss और Target क्या होता है ?

शेयर मार्केट (share market) में निवेश के लिए स्टॉपलॉस (Stop loss) और टारगेट (Target) काफी महत्वपूर्ण रहते हैं। शेयर मार्केट में आने से पहले आपको यह बात पता होनी चाहिए कि शेयर मार्केट में जितना फायदा हो सकता है उतना ही आपको नुकसान भी शेयर मार्केट में हो सकता है ।

अगर आपको पता नहीं है कि स्टॉपलॉस और टारगेट क्या होता है तो आपके लिए यह बात जानना बेहद जरूरी है । आइए इसका मतलब जानने की कोशिश करते हैं । किसी भी शेयर का स्टॉप लॉस वह मूल्य है जिससे ज्यादा आप को नुकसान नहीं हो सकता । आइए इसको एक उदाहरण से समझे है ।

मान लीजिए कि आपने किसी कंपनी का शेयर ₹100 में खरीदा है और उसका टारगेट प्राइस ₹150 रखा है और इसका स्टॉपलॉस प्राइस आपने ₹70 रखा है तो इसका मतलब यह है कि अगर यह शेर ₹70 के नीचे जाएगा तो आपकी पोजीशन वहां से कट कर दी जाएगी मतलब की आपको ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस क्या है उससे ज्यादा लॉस नहीं हो सकता और ठीक वैसे ही आपने टारगेट प्राइस 130 रखा है इसका मतलब यह है कि अगर शेयर 130 की टारगेट प्राइस तक पहुंचता है तो आपका प्रॉफिट वहां से बुक हो जाएगा ।

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से शेयर करें ताकि उनको भी शेयर मार्केट की जानकारी मिल सके ।

What is Target - Stop loss in share market | Stop Loss और Target क्या होता है ?

What is Target - Stop loss in share market | Stop Loss और Target क्या होता है ? Reviewed by Share Market Help on मार्च 03, 2021 Rating: 5

रेटिंग: 4.43
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 207
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *