निवेश के तरीके

आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है?

आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है?

LIC IPO: एलआईसी के आईपीओ के बारे में आपके मन में कोई सवाल है तो यहां पढ़े उसका जवाब

LIC के आईपीओ में इनवेस्ट करने के लिए डीमैट अकाउंट होना जरूरी है। एलआईसी के पॉलिसीहोल्डर्स भी इस इश्यू में तभी अप्लाई कर सकेंगे, जब उनके पास डीमैट अकाउंट होगा।

एलआईसी के आईपीओ में आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है? अप्लाई के लिए शेयरों की न्यूनतम संख्या तय है, जो सभी कैटेगरी के इनवेस्टर्स पर लागू होगी।

LIC का आईपीओ आने में ज्यादा दिन नहीं बचे हैं। एलआईसी देश का सबसे बड़ा आईपीओ पेश करने जा रही है। LIC देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी है। आईपीओ के जरिए सरकार एलआईसी में अपनी 5 आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है? फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी। आईपीओ में 10 फीसदी शेयर LIC के इंप्लॉयीज और पॉलिसीहोल्डर्स के लिए रिजर्व होंगे। इससे इन दोनों को शेयर एलॉट होने की संभावना बढ़ जाएगी।

LIC ने आईपीओ में पैसा लगाने वाले लोगों का कनफ्यूजन दूर करने के लिए खुद सवाल-जवाब के जरिए इश्यू के बारे में अहम जानकारियां दी है।

1. क्या आईपीओ में अप्लाई करने के लिए पॉलिसीहोल्डर्स के पास डीमैट अकाउंट होना जरूरी है?

LIC IPO में पैसा लगाने से पहले इन बातों को जान लेंगे तो आप फायदे में रहेंगे

किसी भी आईपीओ को सब्सक्राइब करने से कुछ बातों का ख्याल जरूर रखना चाहिए ताकि आप निवेश की गई पूंजी से मुनाफा कमा सकें.

किसी भी आईपीओ को सब्सक्राइब करने से कुछ बातों का ख्याल जरूर रखना चाहिए ताकि आप निवेश की गई पूंजी से मुनाफा कमा सकें.

आईपीओ में निवेश (Investment In IPO) करने वाले रिटेल निवेशक जो सबसे बड़ी गलती करते हैं वो ये है कि वे हॉट थीम के पीछे भाग . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : March 17, 2022, 20:41 IST

नई दिल्‍ली. आईपीओ में निवेश (Investment In IPO) का फैसला सोच समझकर लेना चाहिए. किसी भी आईपीओ को सब्सक्राइब करने से कुछ बातों का ख्याल जरूर रखना चाहिए ताकि आप निवेश की गई पूंजी से मुनाफा कमा सकें. ज्यादातर निवेशकों को यह पता नहीं होता कि वे किसी आईपीओ में पैसा क्यों लगा रहे हैं. निवेश लक्ष्‍य और एग्जिट स्ट्रेटेजी के बगैर किसी आईपीओ में इनवेस्ट करना सही नहीं है.

अब देश की सबसे बड़ी इंश्‍योरेंस कपंनी भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) का आईपीओ आने वाला है. बड़ी संख्या में रिटेल इनवेस्टर्स एलआईसी के आईपीओ (LIC IPO) में पैसे लगाना चाहते हैं. एलआईसी आईपीओ आजकल चर्चा का विषय बना हुआ है. लेकिन, LIC सहित किसी भी आईपीओ में निवेश करने से पहले कुछ खास बातों का ध्‍यान रखना बहुत जरूरी है. आइये जानते हैं कि आईपीओ सब्‍सक्राइब करते वक्‍त किन बातों का ध्‍यान रखें.

हॉट थीम के पीछे न भागें

आईपीओ रिटेल निवेशक जो सबसे बड़ी गलती करते हैं वो ये है कि वे हॉट थीम के पीछे भागते हैं. साल 2021 में टेक्नोलॉजी बेस्ड न्‍यू एज कंपनियों के आईपीओं में खूब पैसा लगाया गया. लेकिन, इन कंपनियों ने निवेशकों को घाटे के सिवाय कुछ नहीं दिया. इसका उदाहरण पेटीएम का आईपीओ है. पेटीएम का शेयर (Pytm Share) अपने इश्यू प्राइस के मुकाबले दो-तिहाई वैल्यू गंवा चुका है.यही हाल कारट्रेड (Cartrade) और पीबी आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है? फिनटेक के शेयरों का है.

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज (Motilal Oswal Financial Services) की एवीपी (रिटेल रिसर्च) स्नेहा पोद्दार ने मनीकंट्रोल को बताया कि शेयर के भाव अंडरलाइंड बिजनेस के फंडामेंटल्स को ट्रैक करते हैं. अगर कंपनी पैसे नहीं कमा रही है या उस सेक्टर में जबरदस्‍त मुकाबला है तो मुश्किल समय में ऐसी कंपनियों के शेयर गिर जाते हैं और फिर उन्‍हें ऊपर उठने में टाइम लगता है. वहीं आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है? मजबूत मजबूत फंडामेंटल वाली कंपनियों के स्‍टॉक वापस जल्‍दी गति पकड़ लेते हैं.

बिजनेस को जाने बिना न करें निवेश

दिग्‍गज निवेशक वॉरेन बफे (Warren Buffet) का कहना है कि किसी भी कंपनी में निवेश करने से पहले उसके व्‍यवसाय को समझना चाहिए. कंपनी के बिजनेस मॉडल, मार्जिन, मुनाफा कमाने की क्षमता और विकास की संभावनाओं को टटोलना बहुत जरूरी है. आईपीओ के मामले में इनवेस्टर्स सिर्फ यह देखते हैं कि यह कंपनी क्या करती है. वे उसके प्रोडक्ट या सर्विसेज की क्वालिटी पर ध्यान तो देते हैं, लेकिन बिजनेस मॉडल, मार्जिन जैसी चीजों की अनदेखी कर देते हैं. ऐसा करना ठीक नहीं हैं. किसी कंपनी के आईपीओ में पैसा लगाने से पहले उसके बिजनेस के हर पहलू को समझना चाहिए.

अपना निवेश लक्ष्‍य बनाइये ?

ज्यादातर निवेशकों को यह पता नहीं होता कि वे किसी आईपीओ में पैसा क्यों लगा रहे हैं. इनवेस्टमेंट लक्ष्य (Investment Goal) और किसी निवेश में से बाहर निकलने (Exit Strategy) की रणनीति के बिना किसी आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है? आईपीओ में इनवेस्ट करना सही नहीं है. आपको यह तय करना होगा कि आप आईपीओ में सिर्फ लिस्टिंग गेन (listing Gain) के लिए निवेश कर रहे हैं या फिर आपका इरादा लॉन्ग टर्म निवेश का है. जब आप लिस्टिंग गेन के लिए पैसे लगाते हैं तो चढ़ते बाजार में आपके सफल रहने की संभावना ज्यादा होती है. अगर आप लंबी अवधि के लिहाज से इनवेस्ट कर रहे हैं तो आपको शेयर की लिस्टिंग से ज्यादा मतलब नहीं होना चाहिए.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

LIC IPO से आपको कितनी लिस्टिंग गेंस की उम्मीद करनी चाहिए?

ग्रे मार्केट में एलआईसी के शेयरों के प्राइस को देखने से अच्छी लिस्टिंग गेंस की उम्मीद दिख रही है। पिछले तीन दिन में ग्रे मार्केट में इस शेयर का प्रीमियम करीब चार गुना हो गया है। अभी ग्रे मार्केट में इस पर प्रति शेयर 90 आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है? रुपये का प्रीमियम चल रहा है

एलआईसी के शेयर 17 मई को स्टॉक एक्सचेंजों पर लिस्ट होंगे। उस दिन पता चलेगा कि फटाफट प्रॉफिट के लिए आईपीओ में पैसे लगाने वाले निवेशकों को यह इश्यू खुश आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है? करेगा या मायूस।

LIC का आईपीओ बुधवार (4 मई) को खुल जाएगा। 9 मई तक इसमें इनवेस्ट किया जा सकता है। क्या आप इस आईपीओ में लिस्टिंग गेंस (LIC IPO Listing Gains) के लिए इनवेस्ट कर रहे हैं? अगर हां तो आपकी दिलचस्पी यह जानने में होगी कि आपका फटाफट कितना प्रॉफिट बन सकता है। एलआईसी के शेयर 17 मई को स्टॉक एक्सचेंजों पर लिस्ट होंगे। उस दिन पता चलेगा कि फटाफट प्रॉफिट के लिए आईपीओ में पैसे लगाने वाले निवेशकों को यह इश्यू खुश करेगा या मायूस।

ग्रे मार्केट में एलआईसी के शेयरों के प्राइस को देखने से अच्छी लिस्टिंग गेंस की उम्मीद दिख रही है। पिछले तीन दिन में ग्रे मार्केट में इस शेयर का प्रीमियम करीब चार गुना हो गया है। अभी ग्रे मार्केट में इस पर प्रति शेयर 90 रुपये का प्रीमियम चल रहा है। यह आईपीओ में तय प्राइस का करीब 10 फीसदी है। अभी इश्यू आने में दो दिन का वक्त बचा है। इन दिनों दिनों में ग्रे मार्केट में प्रीमियम बढ़ने की उम्मीद है।

LIC के IPO में ऐसे लगाए पैसे | How to Invest in LIC IPO in Hindi

भारतीय शेयर मार्केट में आये दिन नए नए IPO आते रहते हैं, अभी हाल में, LIC से लेके अडानी विल्मार और ओयो, ixigo , wellness forever medical, mobikwik जैसे बड़े और जाने पहचाने नाम हैं जिनका IPO आने वाला है, आप चाहें तो यहां Upcoming IPO पर आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है? क्लिक करके देख सकते हैं।

Basically, IPO का फूल फॉर्म इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग होता है। जब कंपनी बडी हो जाती है और कंपनी को आगे बढ़ाने के लिए पैसों की जरूरत होती है तो वह आम लोगो से पैसा जुटाती है और यह भारत सरकार की कुछ बॉडीज हैं उनमें रजिस्टर होने के बाद हो पाता है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और NSDL जैसी बॉडीज के नेतृत्व में होता है। IPO में कंपनी के स्टैक को शेयर में बांट दिया जाता है और एक कीमत फिक्स कर दी जाती है उस फिक्स्ड कीमत पर कोई बहु व्यक्ति कम से कम 1 शेयर से लेके हजारों शेयर खरीद सकता है।

देश में कई प्राइवेट कंपनियां हैं. इनमें कई कंपनियां परिवार, स्वयं या कुछ शेयर आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है? होल्डर आपस में मिलकर चलाते हैं. जब इन कंपनियों को पूंजी की जरूरत होती है तो ये खुद को शेयर बाजार में लिस्ट कराती हैं और इसका सबसे कारगर तरीका है IPO यानी Initial Public Offer जारी करना, IPO सबसे आसान तरीका है पैसा जुटाने का। शेयर बेचना मतलब अब कंपनी के कई मालिक हैं, अगर आपने 1 शेयर भी खरीदा है तो आप भी उसके उतने स्टैक के मालिक हैं।

शेयर कहाँ से खरीद सकते हैं?

आप शेयर ऑनलाइन खरीद सकते हैं, आपको डिमैट एकाउंट खुलवाना होगा। और आपके वेरिफिकेशन के बाद आप भी रजिस्टर यूजर बनकर शेयर खरीद पाएंगे। आप zerodha जैसे कई सारे आप्लिकेशन पर एकाउंट बनाकर शेयर मार्केट में पैसा लगा पाएंगे या किसी भी कंपनी का शेयर खरीद पाएंगे।
यह कुछ बेस्ट और पॉपुलर ट्रेडिंग अप्प हैं जहां से आप भरतीय बाजार में ट्रेडिंग कर पाएंगे।
Upstox
Zerodha Kite
Angel Broking
Groww
5Paisa Online trading app
Sharekhan App
Motilal Oswal MO Investor App

Zerodha Trading App

Zerodha Trading App एक बहुत अच्छा प्लेटफॉर्म है, आप इस लिंक से डाऊनलोड करके

रजिस्टर हो सकते हैं, 24 से 48 घंटों में आपको यूजर आईडी और पासवर्ड भेज दिया जाएगा उसके बाद आप Zerodha Kite App की मदद से Reliance, Tata, Sbi या Lic या किसी भी कंपनी के शेयर खरीद पाएंगे। हालांकि LIC का IPO आने के बाद ही उसे खरीद पाएंगे।

Demat Account होना चाहिए

किसी निवेशक को अगर IPO में निवेश करना है तो सबसे पहले उसके पास एक Demat Account होना चाहिए. Demat Account आप किसी भी ब्रोकिंग फर्म से खोल सकते हैं. लेकिन आपको हमेशा Demat Account एक जानी-मानी ब्रोकिंग फर्म से खोलना चाहिए. अब लोगों को शेयर अलॉटमेंट पेपर फॉर्म में नहीं बल्कि Demat फॉर्म में होता है, इसलिए IPO में निवेश के लिए Demat Account होना अनिवार्य है. Demat Account में ही आपके शेयर अलॉट होते हैं. DEmat एकाउंट अब कठिन या के दिनों का प्रोसेस नही है। आप ऊपर दिए गए किसी भी एप्पलीकेशन से इसे पूरा कर सकते हैं।

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग शॉपिंग करने जैसा नही है, आपको मार्किट को रीड करना पड़ेगा, जितना ज्यादा इसपे आप ध्यान से ट्रेडिंग करेंगे आपके लिए यह उतना ही फायदेमंद होगा।

IPO के प्रकार

IPO का हिंदी में मतलब प्रथम जन प्रस्ताव होता है

आईपीओ दो तरह के होते हैं:—
IPO दो तरह के होते हैं। दोनों की अपनी खासियत होती है।
आईपीओ को दो तरह से बांटने का कारण उसकी कीमतों का निर्धारण होता है.
बुक बिल्डिंग आईपीओ (Book Building IPO)
फिक्स्ड प्राइस आईपीओ (Fixed Price IPO)

आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता आईपीओ में इनवेस्ट कैसे किया जाता है? है?

आईपीओ जारी करने वाली कंपनी अपने आईपीओ को इनवेस्टर्स या आम लोग जो इन्वेस्ट करने चाहते हैं, के लिए 7-10 दिनों के लिए ओपन करती है. इनवेस्टर उन 7 से 10 दिनों के भीतर ही खरीद सकता है. कोई कंपनी अपने आईपीओ जारी करने की अवधि सिर्फ 3 दिन भी रखती है तो

दिये गए निश्चित दिनों के अंदर रजिस्टर्ड ब्रोकरेज के जरिए आईपीओ में इनवेस्ट कर सकते हैं. अब अगर आईपीओ फिक्स प्राईस इश्यू है तो आपको उसी फिक्स प्राईस पर आईपीओ के लिए अप्लाई करना होगा, और अगर आईपीओ बुक बिल्डिंग इश्यू है तो आपको उस बुक बिल्डिंग इश्यू पर ही बिड लगानी होगी.

रेटिंग: 4.60
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 541
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *