निवेश के तरीके

म्यूचुअल फंड को समझना

म्यूचुअल फंड को समझना

कमाई का मौका : आज खुलेगा Dharmaj Crop Guard का IPO, प्राइस बैंड से जीएमपी तक ये है पूरी डिटेल

अगर आप शेयर बाजार (Stock Market) में निवेश की तैयारी कर रहे हैं, तो आज से आपको शानदार मौका मिलने वाला है. आज से एग्रोकेमिकल कंपनी धर्मज क्रॉप गार्ड (Dharmaj Crop Guard) का आईपीओ ओपन हो रहा है. 251.15 करोड़ रुपये का ये इश्यू सब्सक्रिप्शन के लिए महीने के आखिरी दिन यानी 30 नवंबर तक खुला रहेगा. कंपनी की ओर से 216 करोड़ रुपये के फ्रेश इक्विटी शेयर जारी किए जाएंगे.

कंपनी ने तय किया ये प्राइसबैंड

धर्मज क्रॉप गार्ड आईपीओ के जरिए प्रमोटर्स ऑफर फॉर सेल (OFS) के तहत 14.83 लाख इक्विटी शेयरों की बिक्री करेंगे. कंपनी ने अपने इश्यू के लिए प्राइस बैंड (Price Band) 216-237 रुपये प्रति शेयर तय किया है. रिपोर्ट के मुताबिक, इसका 50% हिस्सा क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स (QIB) के लिए रिजर्व है. इसके अलावा 35% हिस्सा रिटेल इन्वेस्टर्स (Retail Bidders) और 15% नॉन इंस्टीट्यूशनल (NII) बिडर्स के म्यूचुअल फंड को समझना लिए आरक्षित है.

8 दिसंबर को हो सकती है लिस्टिंग

लॉट साइज की बात करे तो इस आईपीओ के लिए यह 60 इक्विटी शेयरों का है. इस हिसाब से देखें तो निवेशकों को अपर प्राइस बैंड पर कम से कम 14,220 रुपये एक लॉट के लिए निवेश करने होंगे. 20 नवंबर को आईपीओ बंद होने के बाद इन्वेस्टर्स को शेयरों का अलॉटमेंट 5 दिसंबर को किया जाएगा. जबकि, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर इसके शेयरों की लिस्टिंग 8 दिसंबर को हो सकती है.

ग्रे-मार्केट में शेयर मचा रहे धमाल

Dharmaj Crop Guard के शेयर ग्रे-मार्केट में भी धमाल मचा रहे हैं. कंपनी के शेयर जहां शनिवार को 60 रुपये के प्रीमियम पर कारोबार कर रहे थे, तो वहीं अब इनका ग्रे-मार्केट प्रीमियम (GMP) 65 रुपये पर पहुंच गया है. आईपीओ पेश होने से एक दिन पहले इसे एंकर निवेशकों को लिए खोला गया था और इन इन्वेस्टर्श से कंपनी ने 74.95 करोड़ रुपये की रकम जुटा ली है.

क्या करती है कंपनी?

यह एग्रोकेमिकल कंपनी कीटनाशक, फंगीसाइड्स, हर्बीसाइड्स, प्लांट ग्रोथ रेगुलेटर, माइक्रो फर्टिलाइजर्स और एंटीबायोटिक जैसे कई एग्रोकेमिकल प्रोडक्ट्स तैयार करती है. इस आईपीओ के साथ ही नवंबर के लास्ट में शेयर बाजार निवेशकों को एक और इश्यू में पैसा लगाने का मौका मिलने वाला है. दरअसल, 30 नवंबर को धर्माज क्रॉप का इश्यू बंद होने के दिन ही Uniparts India का इश्यू खुलने वाला है, जो 836 करोड़ रुपये का है.

Fixed deposits vs Liquid Funds:कहां है फायदा, फर्क समझें और चुनें सही विकल्प

Low Risk Investment: हर व्यक्ति आमदनी के साथ निवेश करने की सोच रहा है। कम जोखिम वाले निवेश को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाती है। अगर आप रिस्क नहीं लेना चाहते हैं तो फिक्स्ड डिपॉजिट इक्विटी से बेहतर विकल्प है। लेकिन अगर आप रिस्क लेकर अच्छा रिटर्न पाना चाहते हैं तो आप लिक्विड फंड्स पर विचार कर सकते हैं। लिक्विड फंड म्यूचुअल फंड में किया गया निवेश है। इसमें फिक्स्ड डिपॉजिट की तरह कम जोखिम होता है। इसमें आपका पैसा फिक्स्ड इनकम सिक्योरिटीज जैसे कमर्शियल पेपर, गवर्नमेंट सिक्योरिटीज, बॉन्ड या ट्रेजरी बिल में निवेश किया जाता है। शॉर्ट टर्म प्रॉफिट के लिए यह एक अच्छा विकल्प है। लेकिन अगर आप निवेश करते वक्त कन्फ्यूज हैं तो जानिए फिक्स्ड डिपॉजिट और लिक्विड फंड में क्या अंतर है। ताकि आप इन कम जोखिम वाले निवेशों के बारे में सूचित हो सकें और बेहतर निर्णय ले सकें।

फिक्स्ड डिपॉजिट और लिक्विड फंड

सावधि जमा एक निश्चित अवधि के लिए निश्चित ब्याज दर पर ब्याज अर्जित करता है। बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थान आपको ये स्कीम ऑफर करते हैं। बैंक में पैसा जमा करने के बजाय एफडी पर सेविंग अकाउंट से ज्यादा ब्याज मिलता है। दूसरी तरफ आप लिक्विड फंड का विकल्प भी चुन सकते हैं। शॉर्ट टर्म प्रॉफिट के लिए यह एक अच्छा विकल्प है। यह एक म्यूचुअल फंड है जो फिक्स्ड इनकम सिक्योरिटीज में निवेश करता है। यह पूंजी सुरक्षा और तरलता प्रदान करता है। बचत खाते से बेहतर ब्याज मिलता है। आइए समझते हैं दोनों के बीच का अंतर।

म्यूचुअल फंड को समझना

Crop Insurance Mobile App: देश भर में किसान रबी सीजन की फसलों की बुवाई का काम कर रहे है। म्यूचुअल फंड को समझना कई किसानों से तो बुवाई कर भी ली है। पर अभी काम खत्म हुआ क्योंकि जलवायु परिवर्तन के चलते मौसम की अनिश्चितताओं की वजह से फसल पर कभी-भी कोई आंच आ सकती है। लेकिन देश की केंद्र सरकार किसानों को इस डर से बचाने के लिए पीएम फसल बीमा योजना चला रही है। अब इसको और सरल बनाने के लिए यानी फसल बीमा मोबाइल एप की शुरुआत की गई है. ये मोबाइल एप को डाउनलोड करके किसान घर बैठे सीधे अपनी फसल का प्रीमियम काउंट कर सकते हैं.

यहां मिलेगी बीमा म्यूचुअल फंड को समझना क्लेम की सुविधा

फसल बीम मोबाइल एप्लीकेशन से अब फसल बीमा प्रीमियम म्यूचुअल फंड को समझना को समझना बिल्कुल आसान हो गया है. इतना ही नहीं, जब कभी बीमित फसल को प्राकृतिक आपदाओं से नुकसान हो जाए तो 72 घंटे के अंदर फसल बीमा मोबाइल एप से ही अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं. इसी के साथ-साथ बीमित फसल के लिए जमा करवाए गए प्रीमियम की डीटेल भी इस एप से ट्रैक भी कर सकते हैं.

कौन सी फसल के लिए कब और कितना प्रीमियम भरना है, इन सभी की जानकारी के लिए अब दफ्तरों के चक्कर लगाने की जरूरत भी नहीं, बल्कि सारी डीटेल अब से क्रॉप ​इंश्योरेंस मोबाइल एप पर ही मिल जाएगी. प्रीमियम भरने के म्यूचुअल फंड को समझना दौरान फसल में नुकसान होने पर भी जो किसान इस मोबाइल एप के माध्यम से अपनी बीमा कंपनी को सूचित करेंगे, और नुकसान की भरपाई की जाएगी.

इंश्योरेंस प्रीमियम से लेकर पॉलिसी की जानकारी

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत लॉन्च किए गए फसल बीमा एप पर किसानों की पॉलिसी का स्टेटस, इंश्योरेंस प्रीमियम, बीमा कंपनी की जानकारी, हेल्पलाइन नंबर और ऐसी ही तमाम जानकारियां मिल जाती है. इन सभी जानकारियों के लिए स्मार्ट फोन पर गूगल प्ले स्टोर से 'Fasal Beema App' या 'Crop Insurance App' डाउनलोड करना होगा.

म्यूचुअल फंड को समझना

union

union

Rewarded

Earn reward points on transactions made at POS and e-commerce outlets

Book your locker

Deposit lockers are available to keep your valuables in a stringent and safe environment

Financial Advice?

Connect to म्यूचुअल फंड को समझना our financial advisors to seek assistance and meet set financial goals.

रेटिंग: 4.86
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 421
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *