ट्रेडिंग फॉरेक्स के लाभ

बाजार पोर्टफोलियो की मूल बातें

बाजार पोर्टफोलियो की मूल बातें

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें? (How to invest in stock market)

कोविड 19 आने के बाद शेयर बाजार में बहुत उतार चढाव हुआ है जो आपको शायद पता हो उस टाइम जब कोरोना आया था जिसने भी मार्केट गिरने के बाद इन्वेस्टमेंट किया उसको बहुत अच्छा Return मिला आज मैं आपको निवेश करने के स्टेप्स बताऊगा जिससे आप भी शेयर बाजार में निवेश कर पाएंगे।

निवेश शुरू करने में देर नहीं हुई है! आपके लिए पैसा काम करना, अन्य तरीकों के बजाय, आपके वित्तीय भविष्य को सुरक्षित करने का (How to invest in stock market) एक शानदार तरीका है। लेकिन आप इसके बारे में कैसे जाते हैं? यह ब्लॉग स्टॉक मार्केट की बुनियादी बातों पर आवश्यक जानकारी प्रस्तुत करेगा, जैसे कि यह क्या है, यह कैसे काम करता है, और विभिन्न प्रकार के स्टॉक जिनमें आप निवेश कर सकते हैं। आप यह भी सीखेंगे कि अपनी निवेश आवश्यकताओं के लिए सही स्टॉक कैसे चुनें और कैसे शेयर बाजार में निवेश करने के लिए। अंत में, यह ब्लॉग आपके शेयर बाजार में निवेश करने के लिए आवश्यक कदमों की रूपरेखा तैयार करता है – स्टॉक चुनने से लेकर आपके पोर्टफोलियो पर नज़र रखने तक । आरंभ करने के लिए तैयार हैं? पढ़ते रहिये!

Table of Contents

शुरुआती लोगों के लिए शेयर बाजार की अनिवार्यता

शेयरों में निवेश करना एक बहुत ही जोखिम भरा प्रस्ताव है, लेकिन सही ज्ञान और मार्गदर्शन के साथ, यह एक पुरस्कृत अनुभव हो सकता है। पहली बार निवेश करने वालों के लिए, शेयर बाजार की अनिवार्यताओं की बुनियादी समझ होना जरूरी है। इनमें स्टॉक की कीमतें, स्टॉक निवेश की शर्तें और स्टॉक निवेश क्या दर्शाता है। इसके अतिरिक्त, शुरुआती लोगों को अपने पैसे का निवेश करने के बारे में कोई भी निर्णय बाजार पोर्टफोलियो की मूल बातें लेने से पहले वित्तीय समाचार लेख पढ़ने और शैक्षिक वीडियो देखकर शुरू करना चाहिए । एक बार जब उन्हें बुनियादी बातों की ठोस समझ हो जाए, तो निवेश शुरू करने का समय आ गया है! लेकिन याद रखें, निवेश एक जोखिम लेने वाली गतिविधि है, इसलिए शेयरों में पैसा लगाने से पहले हमेशा अपना उचित परिश्रम करें।

सही स्टॉक चुनने के Tips

जब How to invest in stock market की बात आती है, तो बहुत सी चीजों पर विचार करना होता है। इनमें से कुछ कारकों में जोखिम और वापसी, साथ ही विकास क्षमता और स्थिरता शामिल है। सूचित निर्णय लेने में आपकी सहायता के लिए, वैल्यू लाइन इन्वेस्टमेंट सर्वे या मॉर्निंगस्टार रेटिंग जैसे स्क्रीनिंग टूल का उपयोग करें। इससे आपको अपने दीर्घकालिक निवेश लक्ष्यों के लिए सही स्टॉक खोजने में मदद मिलेगी। धैर्य रखें – इनमें से कुछ कंपनियों को परिपक्व होने और आपके निवेश पर अच्छा रिटर्न देने में वर्षों लग सकते हैं। इसलिए, कुछ समय के लिए स्टॉक के साथ रहने से डरो मत अगर ऐसा लगता है कि यह सही दिशा में जा रहा है। जब तक आपके पास एक संतुलित दृष्टिकोण है और इसमें शामिल जोखिमों को समझते हैं, शेयर बाजार में निवेश करना निश्चित रूप से संभव है!

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें?

शेयर बाजार एक जटिल और हमेशा बदलते परिवेश है। अपने निवेश का अधिकतम लाभ उठाने के लिए, आपके समग्र निवेश लक्ष्यों के लिए सही तरीका चुनने में सलाहकार की मदद लेना मददगार हो सकता है। शेयर बाजार में निवेश करने के कुछ तरीके हैं: म्यूचुअल फंड, व्यक्तिगत स्टॉक या ईटीएफ (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड) के माध्यम से। जबकि प्रत्येक के अपने लाभ और कमियां हैं, निर्णय लेने से पहले प्रत्येक विकल्प पर सावधानीपूर्वक शोध करना महत्वपूर्ण है। याद रखें, निवेश एक बार की घटना नहीं है – यह एक सतत प्रक्रिया है जिसके लिए धैर्य और दृढ़ता की आवश्यकता होगी। आपको कामयाबी मिले!

निवेश के लिए सही स्टॉक कैसे चुनें?

जब शेयर बाजार में निवेश की बात आती है, तो पहले अपना शोध करना महत्वपूर्ण है। इसमें कंपनी के वित्तीय आँकड़े, विकास क्षमता और भविष्य की संभावनाओं को समझना शामिल है। यह भी याद रखना महत्वपूर्ण है कि स्टॉक की कीमतें उतनी ही अच्छी हैं जितनी दूसरों की इसे बेचने की इच्छा। सुनिश्चित करें कि आप ऐसे स्टॉक खरीद रहे हैं जो आपको लगता है कि लंबे समय में आपके निवेश के लायक होंगे – अधिक खर्च न करें! और अंत में, हमेशा अच्छी वित्तीय स्थिरता और प्रबंधन वाली ठोस कंपनियों के शेयरों में निवेश करें। इस तरह, आप एक सुरक्षित और लाभदायक निवेश के बारे में सुनिश्चित हैं।

अधिकतर पूछे जाने वाले सवाल (FAQ):

मैं निवेश करने के लिए सही स्टॉक कैसे ढूंढूं?

शेयरों में निवेश करते समय विचार करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक उन कंपनियों को ढूंढना है जिनके पास वित्तीय स्थिरता और विकास का अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड है। शेयर बाजार अस्थिर हो सकता है, इसलिए अपना शोध करना और यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आप उच्च गुणवत्ता वाले शेयरों में निवेश कर रहे हैं। आप Screener.Com या Tickertape.Com कॉम जैसी वेबसाइटों पर अलग-अलग शेयरों के प्रदर्शन के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

मुझे अपने पोर्टफोलियो को कितनी बार पुनर्संतुलित करना चाहिए?

इन्वेस्टोपेडिया अपने समग्र परिसंपत्ति आवंटन को बनाए रखने के लिए वर्ष में कम से कम एक बार आपके पोर्टफोलियो को पुनर्संतुलित करने की सलाह देता है।

क्या स्टॉक को लंबी अवधि के लिए खरीदना या होल्ड करना बेहतर है?

इस प्रश्न का कोई एक आकार-फिट-सभी उत्तर नहीं है। प्रत्येक व्यक्ति की निवेश रणनीति उनकी जोखिम सहनशीलता, निवेश लक्ष्यों और वित्तीय स्थिति के आधार पर भिन्न होगी। कुछ लोग स्टॉक खरीदने और उन्हें लंबे समय तक रखने का विकल्प चुन सकते हैं, जबकि अन्य अपने स्टॉक को बेचने और अन्य बाजार पोर्टफोलियो की मूल बातें प्रकार के निवेशों में पुनर्निवेश करना चुन सकते हैं। कोई सही या गलत उत्तर नहीं है – यह सब व्यक्ति की विशिष्ट परिस्थितियों पर निर्भर करता है।

शेयर बाजार में निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

इस प्रश्न का कोई एक आकार-फिट-सभी उत्तर नहीं है, क्योंकि शेयर बाजार में निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका आपकी व्यक्तिगत वित्तीय स्थिति और लक्ष्यों के आधार पर भिन्न हो सकता है। हालांकि, शेयर बाजार में निवेश करने के कुछ सुझावों में म्यूचुअल फंड में निवेश करना, व्यक्तिगत स्टॉक खरीदना या सेवानिवृत्ति खाते जैसे 401 (के) में निवेश करना शामिल है। इन तथ्यों और आंकड़ों की जानकारी का स्रोत वित्तीय योजना पत्रिका है।

निष्कर्ष:

इस ब्लॉग के माध्यम से पढ़ने के बाद, आप शेयर बाजार में निवेश की मूल बातें से अच्छी तरह सुसज्जित हो जाएंगे। सही स्टॉक चुनने से लेकर उनमें निवेश करने तक, यह जानने के लिए कि कब बेचना है और कब होल्ड करना है, आप अपने दम पर अच्छे निर्णय लेने में सक्षम होंगे। हालांकि, याद रखें कि शेयर बाजार में निवेश एक जोखिम भरा व्यवसाय है, इसलिए हमेशा अपना शोध करें और कोई भी निर्णय लेने से पहले किसी वित्तीय सलाहकार से सलाह लें। पढ़ने के लिए धन्यवाद!

क्रिप्टो पोर्टफोलियो कैसे बनाएं? (How to Build a Crypto Portfolio?)

जिन लोगों ने बिटकॉइन पर तब दांव लगाया था, जब इसकी कीमत मात्र कुछ डॉलर थी, उन्होंने पिछले वर्षों में महत्वपूर्ण लाभ कमाया है। मार्केट पूंजीकरण द्वारा दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी पिछले एक दशक की सबसे अच्छी प्रदर्शन करने वाली संपत्ति रही है, इसके परिणामस्वरूप, कई नौसिखिए निवेशक जिन्होंने इसे सही समय पर लिया, करोड़पति और कई लोग तो अरबपति हो गए।

जैसे-जैसे क्रिप्टोकरेंसी मार्केट का विस्तार हो रहा है और एडॉप्शन की दर अपने उच्चतम स्तर पर है, निवेशक अगली बड़ी क्रिप्टोकरेंसी की तलाश कर रहे हैं जो उनके पोर्टफोलियो को बहुत ऊंचाई पर ले जाएगा। एकमात्र मुद्दा यही है कि हम ऐसी क्रिप्टोकरेंसी को कैसे खोजें जो भविष्य में बुलंदियों तक जाएगा?

मूल बातें

खरीद की कीमत महत्वपूर्ण होती है बाजार पोर्टफोलियो की मूल बातें

अगली बड़ी चीज़ की तलाश के दौरान टोकन की कीमत को ध्यान में रखें। कम पूंजी वाले साधारण बिटकॉइन निवेशक के लिए कम कीमत वाली क्रिप्टोकरेंसी आदर्श निवेश हो सकती है।

$5,000 के निवेश पर थोड़े बिटकॉइन मिलेंगे या आज की कीमत पर एक डॉलर से भी कम मूल्य के हजारों कॉइन्स मिल जाएंगे। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कम कीमत वाले कॉइन्स पोर्टफोलियो विविधीकरण का एक उत्कृष्ट साधन होते हैं।

एडॉप्शन की संभावनाएं

2017 की अंतिम तिमाही में रिपल में महत्वपूर्ण तेजी देखी गई। हालांकि इस साल XRP थोड़ा नीचे गिरा है, फिर भी इसमें क्रिप्टोकरेंसी मार्केट के बाहर उपयोग की बहुत संभावना है। रिपल के समाधान प्रणाली की अंतर्निहित तकनीक केंद्रीय बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों को आश्वस्त करती है कि इसमें सुधार आएगा।

पॉलिगन के बारे में भी यही कहा जा सकता है। क्रिप्टोकरेंसी उद्योग में भारतीय प्रोजेक्ट की स्वीकार्यता बढ़ती जा रही है। पॉलीगॉन इथेरियम की कुछ प्रमुख कमियों को दूर करने के लिए एक नया साइडचेन दृष्टिकोण अपना रहा है, जिसमें इसके थ्रूपुट, खराब उपयोगकर्ता अनुभव (गति और विलंबित लेनदेन), और सामुदायिक नियंत्रण की कमी शामिल है। फिर भी इसका प्रचार बहुत ज्यादा हो रहा है क्योंकि इसके प्रतिस्पर्धी काफी कम हैं।

एक ऐसी क्रिप्टोकरेंसी ढूंढ कर उसमें निवेश करना, जो अपने प्रतिस्पर्धियों से ज्यादा लाभ दे रहा है (और इस प्रकार व्यापक रूप से स्वीकार किए जाने की अधिक संभावना है) एक बेहतर निवेश हो सकता है।

आपूर्ति एक महत्वपूर्ण कारक है

अधिकांश क्रिप्टोकरेंसी की अधिकतम आपूर्ति पूर्व निर्धारित होती है। कैप होने के बाद कोई अन्य टोकन नहीं बनाया जाएगा, जो आमतौर पर माइन करके बनाया जाता है।

यह संभव है कि मांग स्थिर रहने पर कीमत बढ़ जाएगी, लेकिन आपूर्ति कम है। किसी भी क्रिप्टोकरेंसी में खरीदारी करने से पहले, संपूर्ण आपूर्ति के साथ-साथ वर्तमान परिसंचरण का मूल्यांकन जरूर करें।

कीमत और मात्रा

क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग के बारे में जानकारी के लिए ऑनलाइन सामग्री आसानी से उपलब्ध हैं। भविष्य में, बढ़ती कीमतों और ज्यादा लेन-देन वाली डिजिटल करेंसी की मांग ज्यादा होगी।

हालांकि इस बात का कोई आश्वासन नहीं है कि ऊपर की ओर रुझान जारी रहेगा, यह डिजिटल करेंसी का एक अच्छा संकेतक है जो ज्यादा निवेशकों का ध्यान आकर्षित करता है।

अपना रिसर्च खुद करना (DYOR)

इन सब को ध्यान में रखते हुए, आप क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं। अगर ऐसा है, तो आपको अपना सारा पैसा एक ही प्रोजेक्ट में लगाने के बजाए अपने टोकन पोर्टफोलियो में विविधता लानी चाहिए। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपका पोर्टफोलियो अच्छी तरह से संतुलित है, आपको अपने टोकन का चयन कैसे करना चाहिए? ध्यान रखने योग्य कुछ महत्वपूर्ण बातें यहां दी गई हैं:

टोकन की लोकप्रियता

आप क्रिप्टो के लिए नए हैं या नहीं, आपने निस्संदेह कुछ प्रसिद्ध टोकन, जैसे बिटकॉइन और ईथर के बारे में सुना ही होगा। ये आर्थिक रूप से सबसे सफल कॉइन्स हैं और लगभग हर क्रिप्टो निवेशक के पोर्टफोलियो में पाए जा सकते हैं। ये टोकन आम तौर पर लोकप्रिय होते हैं क्योंकि वे आम तौर पर पुराने, अधिक विश्वसनीय टोकन हैं जिनमें निवेश करना “सुरक्षित” माना जाता है।

इन्हें आपकी पोर्टफोलियो का हिस्सा होना ही चाहिए, लेकिन केवल यही नहीं होना चाहिए। जब बिटकॉइन या ईथर की तेजी दुनिया भर में सुर्खियां बटोर सकता है, मार्केट में बेहतर प्रदर्शन करने वाले कई कम ज्ञात आल्टकॉइन्स हैं। अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने और किसी भी तरह से अपने दांव को हेज करने के लिए कुछ संभावित कम-ज्ञात क्वाइंस को खोजने के लिए क्रिप्टो-संबंधित प्लेटफॉर्म पर जाएं।

संभावित अंतर्निहित उपयोग वाले टोकन

संभावित अंतर्निहित उपयोग वाली क्रिप्टोकरेंसी टोकन का एक वर्ग है जिसे आपको अपने पोर्टफोलियो में शामिल करने पर विचार करना चाहिए। उदाहरण के लिए, कुछ क्रिप्टोकरेंसी ब्लॉकचेन-आधारित पहलों से जुड़ी होती हैं, जिनमें समय के साथ सुधार होने की संभावना होती है। हालांकि हर प्रोजेक्ट सफल नहीं होगी, अपने मूल प्रोजेक्ट के वादे के आधार पर कुछ टोकन खरीदना एक अच्छा निर्णय है।

आम तौर पर नए या संभावित ब्लॉकचेन के बारे में जानकारी एकत्र करने के लिए क्रिप्टो-संबंधित पत्रिकाएं और ब्लॉग उपयोगी होती हैं।

पुराना मार्केट प्रदर्शन

किसी भी क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने से पहले, उसके पुराने मार्केट प्रदर्शन की जांच बाजार पोर्टफोलियो की मूल बातें करना आवश्यक है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह डेटा समय के साथ कीमत में सुधार करने की अपनी क्षमता को प्रदर्शित करता है। कुछ टोकन, जैसे कि बिटकॉइन मार्केट में काफी उतार चढ़ाव से गुजरा है, इसका अर्थ है कि मार्केट में हुए हालिया नुकसान से यह निश्चित रूप से उबर जाएगा। यदि टोकन के इतिहास से पता चलता है कि यह लॉन्च के तुरंत बाद काफी ऊपर गया है और बाद में नाटकीय रूप से गिर गया है, तो इसमें निवेश करने से बचना चाहिए।

हालांकि यह एक कठिन और तेज़ नियम नहीं है, लेकिन किसी सिक्के को खरीदने से पहले उसके पिछले बाजार इतिहास की जांच की जानी चाहिए।

सामुदायिक निर्णय

एक व्यक्ति के रूप में निवेश करने के लिए क्रिप्टो के बारे में आपकी समझ समुदाय की तुलना में सीमित हो सकती है। इसके विपरीत, इंटरनेट पर क्रिप्टो निवेश के बारे में बहुत सारी जानकारी है, जिसका आपको निश्चित रूप से उपयोग करना चाहिए।

क्रिप्टोकरेंसी फ़ोरम, टेलीग्राम ग्रुप और सोशल मीडिया प्रोफाइल पर जाकर देखें कि किस टोकन के बारे में ज्यादा चर्चा की जा रही है। यदि आप किसी विशेष करेंसी में निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं, तो आप समुदाय से सलाह मांग सकते हैं, और आपको निश्चित रूप से प्रतिक्रिया मिलेगी। किसी भी मामले में, क्रिप्टोकरेंसी समुदाय के बारे में है, इसलिए इसका लाभ उठाएं।

हालांकि, आपकी क्रिप्टोकरेंसी की तरह, यह सत्यापित करना कि आप अपनी जानकारी कहां से इकट्ठा कर रहे हैं, एक समझदारी भरा निर्णय है। शुरु करने के लिए जाने-माने प्रभावकारी लोग और व्यापारी का अनुभव सही हो सकता है, लेकिन ध्यान रखें कि कोई भी व्यक्ति हर समय सही नहीं हो सकता।

निष्कर्ष

निवेश पोर्टफोलियो बनाना कोई आसान काम नहीं होता, खासकर जब इसमें क्रिप्टोकरेंसी जैसी जटिल चीज शामिल होती है। शुक्र है, इसे नेविगेट करने और सर्वोत्तम टोकन चुनने की रणनीतियाँ हैं। निवेश करने के लिए क्रिप्टो का चयन करते समय, हाल के वर्षों के अनुभव के आधार पर प्रतिष्ठा से लेकर सफलता तक इन सभी कारकों को ध्यान में रखना चाहिए।

अस्वीकरण: क्रिप्टोकुरेंसी कानूनी निविदा नहीं है और वर्तमान में अनियमित है। कृपया सुनिश्चित करें कि आप क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार करते समय पर्याप्त जोखिम मूल्यांकन करते हैं क्योंकि वे अक्सर उच्च मूल्य अस्थिरता के अधीन होते हैं। इस खंड में दी गई जानकारी किसी निवेश सलाह या वज़ीरएक्स की आधिकारिक स्थिति का प्रतिनिधित्व नहीं करती है। वज़ीरएक्स अपने विवेकाधिकार में इस ब्लॉग पोस्ट को किसी भी समय और बिना किसी पूर्व सूचना के किसी भी कारण से संशोधित करने या बदलने का अधिकार सुरक्षित रखता है।

क्रिप्टो पोर्टफोलियो कैसे बनाएं? (How to Build a Crypto Portfolio?)

जिन लोगों ने बिटकॉइन पर तब दांव लगाया बाजार पोर्टफोलियो की मूल बातें था, जब इसकी कीमत मात्र कुछ डॉलर थी, उन्होंने पिछले वर्षों में महत्वपूर्ण लाभ कमाया है। मार्केट पूंजीकरण द्वारा दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी पिछले एक दशक की सबसे अच्छी प्रदर्शन करने वाली संपत्ति रही है, इसके परिणामस्वरूप, कई नौसिखिए निवेशक जिन्होंने इसे सही समय पर लिया, करोड़पति और कई लोग तो अरबपति हो गए।

जैसे-जैसे क्रिप्टोकरेंसी मार्केट का विस्तार हो रहा है और एडॉप्शन की दर अपने उच्चतम स्तर पर है, निवेशक अगली बड़ी क्रिप्टोकरेंसी की तलाश कर रहे हैं जो उनके पोर्टफोलियो को बहुत ऊंचाई पर ले जाएगा। एकमात्र मुद्दा यही है कि हम ऐसी क्रिप्टोकरेंसी को कैसे खोजें जो भविष्य में बुलंदियों तक जाएगा?

मूल बातें

खरीद की कीमत महत्वपूर्ण होती है

अगली बड़ी चीज़ की तलाश के दौरान टोकन की कीमत को ध्यान में रखें। कम पूंजी वाले साधारण बिटकॉइन निवेशक के लिए कम कीमत वाली क्रिप्टोकरेंसी आदर्श निवेश हो सकती है।

$5,000 के निवेश पर थोड़े बिटकॉइन मिलेंगे या आज की कीमत पर एक डॉलर से भी कम मूल्य के हजारों कॉइन्स मिल जाएंगे। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कम कीमत वाले कॉइन्स पोर्टफोलियो विविधीकरण का एक उत्कृष्ट साधन होते हैं।

एडॉप्शन की संभावनाएं

2017 की अंतिम तिमाही में रिपल में महत्वपूर्ण तेजी देखी गई। हालांकि इस साल XRP थोड़ा नीचे गिरा है, फिर भी इसमें क्रिप्टोकरेंसी मार्केट के बाहर उपयोग की बहुत संभावना है। रिपल के समाधान प्रणाली की अंतर्निहित तकनीक केंद्रीय बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों को आश्वस्त करती है कि इसमें सुधार आएगा।

पॉलिगन के बारे में भी यही कहा जा सकता है। क्रिप्टोकरेंसी उद्योग में भारतीय प्रोजेक्ट की स्वीकार्यता बढ़ती जा रही है। पॉलीगॉन इथेरियम की कुछ प्रमुख कमियों को दूर करने के लिए एक नया साइडचेन दृष्टिकोण अपना रहा है, जिसमें इसके थ्रूपुट, खराब उपयोगकर्ता अनुभव (गति और विलंबित लेनदेन), और सामुदायिक नियंत्रण की कमी शामिल है। फिर भी इसका प्रचार बहुत ज्यादा हो रहा है क्योंकि इसके प्रतिस्पर्धी काफी कम हैं।

एक ऐसी क्रिप्टोकरेंसी ढूंढ कर उसमें निवेश करना, जो अपने प्रतिस्पर्धियों से ज्यादा लाभ दे रहा है (और इस प्रकार व्यापक रूप से स्वीकार किए जाने की अधिक संभावना है) एक बेहतर निवेश हो सकता है।

आपूर्ति एक महत्वपूर्ण कारक है

अधिकांश क्रिप्टोकरेंसी की अधिकतम आपूर्ति पूर्व निर्धारित होती है। कैप होने के बाद कोई अन्य टोकन नहीं बनाया जाएगा, जो आमतौर पर माइन करके बनाया जाता है।

यह संभव है कि मांग स्थिर रहने पर कीमत बढ़ जाएगी, लेकिन आपूर्ति कम है। किसी भी क्रिप्टोकरेंसी में खरीदारी करने से पहले, संपूर्ण आपूर्ति के साथ-साथ वर्तमान परिसंचरण का मूल्यांकन जरूर करें।

कीमत और मात्रा

क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग के बारे में जानकारी के लिए ऑनलाइन सामग्री आसानी से उपलब्ध हैं। भविष्य में, बढ़ती कीमतों और ज्यादा लेन-देन वाली डिजिटल करेंसी की मांग ज्यादा होगी।

हालांकि इस बात का कोई आश्वासन नहीं है कि ऊपर की ओर रुझान जारी रहेगा, यह डिजिटल करेंसी का एक अच्छा संकेतक है जो ज्यादा निवेशकों का ध्यान आकर्षित करता है।

अपना रिसर्च खुद करना (DYOR)

इन सब को ध्यान में रखते हुए, आप क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं। अगर ऐसा है, तो आपको अपना सारा पैसा एक ही प्रोजेक्ट में लगाने के बजाए अपने टोकन पोर्टफोलियो में विविधता लानी चाहिए। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपका पोर्टफोलियो अच्छी तरह से संतुलित बाजार पोर्टफोलियो की मूल बातें है, आपको अपने टोकन का चयन कैसे करना चाहिए? ध्यान रखने योग्य कुछ महत्वपूर्ण बातें यहां दी गई हैं:

टोकन की लोकप्रियता

आप क्रिप्टो के लिए नए हैं या नहीं, आपने निस्संदेह कुछ प्रसिद्ध टोकन, जैसे बिटकॉइन और ईथर के बारे में सुना ही होगा। ये आर्थिक रूप से सबसे सफल कॉइन्स हैं और लगभग हर क्रिप्टो निवेशक के पोर्टफोलियो में पाए जा सकते हैं। ये टोकन आम तौर पर लोकप्रिय होते हैं क्योंकि वे आम तौर पर पुराने, अधिक विश्वसनीय टोकन हैं जिनमें निवेश करना “सुरक्षित” माना जाता है।

इन्हें आपकी पोर्टफोलियो का हिस्सा होना ही चाहिए, लेकिन केवल यही नहीं होना चाहिए। जब बिटकॉइन या ईथर की तेजी दुनिया भर में सुर्खियां बटोर सकता है, मार्केट में बेहतर प्रदर्शन करने वाले कई कम ज्ञात आल्टकॉइन्स हैं। अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने और किसी भी तरह से अपने दांव को हेज करने के लिए कुछ संभावित कम-ज्ञात क्वाइंस को खोजने के लिए क्रिप्टो-संबंधित प्लेटफॉर्म पर जाएं।

संभावित अंतर्निहित उपयोग वाले टोकन

संभावित अंतर्निहित उपयोग वाली क्रिप्टोकरेंसी टोकन का एक वर्ग है जिसे आपको अपने पोर्टफोलियो में शामिल करने पर विचार करना चाहिए। उदाहरण के लिए, कुछ क्रिप्टोकरेंसी ब्लॉकचेन-आधारित पहलों से जुड़ी होती हैं, जिनमें समय के साथ सुधार होने की संभावना होती है। हालांकि हर प्रोजेक्ट सफल नहीं होगी, अपने मूल प्रोजेक्ट के वादे के आधार पर कुछ टोकन खरीदना एक अच्छा निर्णय है।

आम तौर पर नए या संभावित ब्लॉकचेन के बारे में जानकारी एकत्र करने के लिए क्रिप्टो-संबंधित पत्रिकाएं और ब्लॉग उपयोगी होती हैं।

पुराना मार्केट प्रदर्शन

किसी भी क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने से पहले, उसके पुराने मार्केट प्रदर्शन की जांच करना आवश्यक है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह डेटा समय के साथ कीमत में सुधार करने की अपनी क्षमता को प्रदर्शित करता है। कुछ टोकन, जैसे कि बिटकॉइन मार्केट में काफी उतार चढ़ाव से गुजरा है, इसका अर्थ है कि मार्केट में हुए हालिया नुकसान से यह निश्चित रूप से उबर जाएगा। यदि टोकन के इतिहास से पता चलता है कि यह लॉन्च के तुरंत बाद काफी ऊपर गया है और बाद में नाटकीय रूप से गिर गया है, तो इसमें निवेश करने से बचना चाहिए।

हालांकि यह एक कठिन और तेज़ नियम नहीं है, लेकिन किसी सिक्के को खरीदने से पहले उसके पिछले बाजार इतिहास की जांच की जानी चाहिए।

सामुदायिक निर्णय

एक व्यक्ति के रूप में निवेश करने के लिए क्रिप्टो के बारे में आपकी समझ समुदाय की तुलना में सीमित हो सकती है। इसके विपरीत, इंटरनेट पर क्रिप्टो निवेश के बारे में बहुत सारी जानकारी है, जिसका आपको निश्चित रूप से उपयोग करना चाहिए।

क्रिप्टोकरेंसी फ़ोरम, टेलीग्राम ग्रुप और सोशल मीडिया प्रोफाइल पर जाकर देखें कि किस टोकन के बारे में ज्यादा चर्चा की बाजार पोर्टफोलियो की मूल बातें जा रही है। यदि आप किसी विशेष करेंसी में निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं, तो आप समुदाय से सलाह मांग सकते हैं, और आपको निश्चित रूप से प्रतिक्रिया मिलेगी। किसी भी मामले में, क्रिप्टोकरेंसी समुदाय के बारे में है, इसलिए इसका लाभ उठाएं।

हालांकि, आपकी क्रिप्टोकरेंसी की तरह, यह सत्यापित करना कि आप अपनी जानकारी कहां से इकट्ठा कर रहे हैं, एक समझदारी भरा निर्णय है। शुरु करने के लिए जाने-माने प्रभावकारी लोग और व्यापारी का अनुभव सही हो सकता है, लेकिन ध्यान रखें कि कोई भी व्यक्ति हर समय सही नहीं हो सकता।

निष्कर्ष

निवेश पोर्टफोलियो बनाना कोई आसान काम नहीं होता, खासकर जब इसमें क्रिप्टोकरेंसी जैसी जटिल चीज शामिल होती है। शुक्र है, इसे नेविगेट करने और सर्वोत्तम टोकन चुनने की रणनीतियाँ हैं। निवेश करने के लिए क्रिप्टो का चयन करते समय, हाल के वर्षों के अनुभव के आधार पर प्रतिष्ठा से लेकर सफलता तक इन सभी कारकों को ध्यान में रखना चाहिए।

अस्वीकरण: क्रिप्टोकुरेंसी कानूनी निविदा नहीं है और वर्तमान में अनियमित है। कृपया सुनिश्चित करें कि आप क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार करते समय पर्याप्त जोखिम मूल्यांकन करते हैं क्योंकि वे अक्सर उच्च मूल्य अस्थिरता के अधीन होते हैं। इस खंड में दी गई जानकारी किसी निवेश सलाह या वज़ीरएक्स की आधिकारिक स्थिति का प्रतिनिधित्व नहीं करती है। वज़ीरएक्स अपने विवेकाधिकार में इस ब्लॉग पोस्ट को किसी भी समय और बिना किसी पूर्व सूचना के किसी भी कारण से संशोधित करने या बदलने का अधिकार सुरक्षित रखता है।

निवेशकों को कंपाउंडिंग रिटर्न कैसे मिलता है?

जब हम निवेशकों के बारे में पढ़ते हैं या किसी ऐसे व्यक्ति से मिलते हैं जो शेयर बाजार या फंड में निवेश करता है। वे हमें बताते हैं कि कैसे वे चक्रवृद्धि रिटर्न कमा सकते हैं, फिर हमारे दिमाग में बाजार पोर्टफोलियो की मूल बातें एक आम सवाल आता है, “निवेशकों को कंपाउंडिंग रिटर्न कैसे मिलता है?” पहले, आपने अपने पैसे का निवेश किया, और फिर आपको अपने पैसे पर ब्याज मिलता है। फिर आप अपनी कमाई के ब्याज के साथ पैसा लगाते हैं, और आपका प्राथमिक लक्ष्य ब्याज पर ब्याज अर्जित करना है। इसे कंपाउंडिंग रिटर्न कहा जाता है। इससे आपका पोर्टफोलियो बहुत तेजी से बढ़ेगा।

सबसे अच्छा उदाहरण वॉरेन बफे है। आप जानते हैं कि वॉरेन बफे इस समय दुनिया के सबसे सफल निवेशक हैं। क्या आप जानते हैं कि वह अमीर कैसे बने? तो एक शब्द में, इसका मतलब चक्रवृद्धि ब्याज से है।

निवेशकों को कंपाउंडिंग रिटर्न कैसे मिलता है?

यदि आप जानना चाहते हैं कि कंपाउंडिंग क्या है, कंपाउंडिंग कैसे काम करती है, और निवेशक कंपाउंडिंग रिटर्न कैसे प्राप्त कर सकते हैं? फिर नीचे दिए गए स्पष्टीकरण को देखें।

कंपाउंडिंग क्या है? –

सरल शब्दों में, कंपाउंडिंग का मतलब है पैसे से पैसा कमाना। इसका मतलब है जब आप शेयर बाजार, ट्रेडिंग या बॉन्ड और किसी अन्य फंड में पैसा लगाते हैं। फिर आप ब्याज, लाभ, या लाभांश के रूप में धन प्राप्त कर सकते हैं, फिर उस धन को स्टॉक, ट्रेड या किसी अन्य स्थान पर पुनर्निवेशित कर सकते हैं जहाँ आप लाभ कमा सकते हैं, और इसी तरह। – अक्सर निवेश करते हैं, और इस प्रक्रिया को कंपाउंडिंग कहा जाता है।

निवेशक अपने निवेश पर रिटर्न कैसे कमा सकते हैं? –

एक उदाहरण पर नजर डालते हैं – आपने शेयर खरीदने में Rs.1000 का निवेश किया और उसके बाद, आपको स्टॉक पर 15% वार्षिक लाभांश (हर तिमाही में 3.75%) मिलता है। आपके निवेशित शेयर का मूल्य भी एक वर्ष में 15% बढ़ जाता है। फिर शेयरों पर अर्जित कुल लाभ Rs.300 है और कुल पूंजी Rs.1300 है।

तो दूसरे वर्ष, आपको मुख्य पोर्टफोलियो में अर्जित लाभ को पुनः प्राप्त करने की आवश्यकता है ताकि यह अधिक ब्याज या लाभांश का उत्पादन करे, जिसे आपको अधिक ब्याज या लाभांश अर्जित करने के लिए मुख्य पोर्टफोलियो में पुनर्निवेश करने की आवश्यकता है। तो, अधिक ब्याज या लाभांश प्राप्त होता है, और चक्र हर साल दोहराता है।

यदि आप प्रत्येक वर्ष के अंत में अपने सभी अर्जित ब्याज को पुनर्निवेशित करते हैं, तो आपके निवेश की वृद्धि इस ग्राफ की तरह दिखाई देगी, आप देख सकते हैं कि कैसे निवेशक अपने निवेश पर चक्रवृद्धि रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

निवेशकों को कंपाउंडिंग रिटर्न कैसे मिलता है?

प्रथम वर्ष की वृद्धि – Rs.1000 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.1300
द्वितीय वर्ष की वृद्धि – Rs.1300 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.1,690
3 वें की वृद्धि – Rs.1690 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.2,197
4 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.2197 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.2,856
5 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.2856 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.3,712
6 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.3712 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.4,825
7 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.4825 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.6,272
8 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.6272 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.8,153
9 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.8153 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.10,598
10 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.10598 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.13,777

इस बिंदु पर ध्यान दें, आपके पास हर साल अर्जित ब्याज के पुनर्निवेश से आपके पहले वर्ष के निवेश का लगभग 14 गुना है।

यह भी एक उत्कृष्ट उदाहरण है कि कैसे निवेशक अपने निवेश पर चक्रवृद्धि रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

निवेशकों को कंपाउंडिंग रिटर्न कैसे मिलता है?

जब हम निवेशकों के बारे में पढ़ते हैं या किसी ऐसे व्यक्ति से मिलते हैं जो शेयर बाजार या फंड में निवेश करता है। वे हमें बताते हैं कि कैसे वे चक्रवृद्धि रिटर्न कमा सकते हैं, फिर हमारे दिमाग में एक आम सवाल आता है, “निवेशकों को कंपाउंडिंग रिटर्न कैसे मिलता है?” पहले, आपने अपने पैसे का निवेश किया, और फिर आपको अपने पैसे पर ब्याज मिलता है। फिर आप अपनी कमाई के ब्याज के साथ पैसा लगाते हैं, और आपका प्राथमिक लक्ष्य ब्याज पर ब्याज अर्जित करना है। इसे कंपाउंडिंग रिटर्न कहा जाता है। इससे आपका पोर्टफोलियो बहुत तेजी से बढ़ेगा।

सबसे अच्छा उदाहरण वॉरेन बफे है। आप जानते हैं कि वॉरेन बफे इस समय दुनिया के सबसे सफल निवेशक हैं। क्या आप जानते हैं कि वह अमीर कैसे बने? तो एक शब्द में, इसका मतलब चक्रवृद्धि ब्याज से है।

निवेशकों को कंपाउंडिंग रिटर्न कैसे मिलता है?

यदि आप जानना चाहते हैं कि कंपाउंडिंग क्या है, कंपाउंडिंग कैसे काम करती है, और निवेशक कंपाउंडिंग रिटर्न कैसे प्राप्त कर सकते हैं? फिर नीचे दिए गए स्पष्टीकरण को देखें।

कंपाउंडिंग क्या है? –

सरल शब्दों में, कंपाउंडिंग का मतलब है पैसे से पैसा कमाना। इसका मतलब है जब आप शेयर बाजार, ट्रेडिंग या बॉन्ड और किसी अन्य फंड में पैसा लगाते हैं। फिर आप ब्याज, लाभ, या लाभांश के रूप में धन प्राप्त कर सकते हैं, फिर उस धन को स्टॉक, ट्रेड या किसी अन्य स्थान पर पुनर्निवेशित कर सकते हैं जहाँ आप लाभ कमा सकते हैं, और इसी तरह। – अक्सर निवेश करते हैं, और इस प्रक्रिया को कंपाउंडिंग कहा जाता है।

निवेशक अपने निवेश पर रिटर्न कैसे कमा सकते हैं? –

एक उदाहरण पर नजर डालते हैं – आपने शेयर खरीदने में Rs.1000 का निवेश किया और उसके बाद, आपको स्टॉक पर 15% वार्षिक लाभांश (हर तिमाही में 3.75%) मिलता है। आपके निवेशित शेयर का मूल्य भी एक वर्ष में 15% बढ़ जाता है। फिर शेयरों पर अर्जित कुल लाभ Rs.300 है और कुल पूंजी Rs.1300 है।

तो दूसरे वर्ष, आपको मुख्य पोर्टफोलियो में अर्जित लाभ को पुनः प्राप्त करने की आवश्यकता है ताकि यह अधिक ब्याज या लाभांश का उत्पादन करे, जिसे आपको अधिक ब्याज या लाभांश अर्जित करने के लिए मुख्य पोर्टफोलियो में पुनर्निवेश करने की आवश्यकता है। तो, अधिक ब्याज या लाभांश प्राप्त होता है, और चक्र हर साल दोहराता है।

यदि आप प्रत्येक वर्ष के अंत में अपने सभी अर्जित ब्याज को पुनर्निवेशित करते हैं, तो आपके निवेश की वृद्धि इस ग्राफ की तरह दिखाई देगी, आप देख सकते हैं कि कैसे निवेशक अपने निवेश पर चक्रवृद्धि रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

निवेशकों को कंपाउंडिंग रिटर्न कैसे मिलता है?

प्रथम वर्ष की वृद्धि – Rs.1000 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.1300
द्वितीय वर्ष की वृद्धि – Rs.1300 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.1,690
3 वें की वृद्धि – Rs.1690 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.2,197
4 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.2197 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.2,856
5 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.2856 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.3,712
6 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.3712 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.4,825
7 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.4825 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.6,272
8 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.6272 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.8,153
9 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.8153 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.10,598
10 वें वर्ष की वृद्धि – Rs.10598 + 30% की वृद्धि (ब्याज) = Rs.13,777

इस बिंदु पर ध्यान दें, आपके पास हर साल अर्जित ब्याज के पुनर्निवेश से आपके पहले वर्ष के निवेश का लगभग 14 गुना है।

यह भी एक उत्कृष्ट उदाहरण है कि कैसे निवेशक अपने निवेश पर चक्रवृद्धि रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

रेटिंग: 4.83
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 803
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *