ट्रेडिंग फॉरेक्स के लाभ

रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार

रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार
कैसे संभलती है स्थिति?

इन सवाल-जवाब में रुपए के कमजोर होने से जुड़ा वो सबकुछ जो आप जानना चाहते हैं

डॉलर की तुलना में किसी भी अन्य मुद्रा का मूल्य घटे तो इसे उस मुद्रा का गिरना, टूटना, कमजोर होना कहते हैं। अंग्रेजी में करेंसी डेप्रीशिएशन। ऐसा ही कुछ तीन दिन पहले 28 जून को रुपए के साथ हुआ है। डॉलर के मुकाबले भारतीय मुद्रा अब तक रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार के सबसे निचले स्तर पर जा पहुंची। एक डॉलर का मूल्य 69.10 रुपए हो गया। पहली बार डॉलर का भाव 69 रुपए से अधिक हुआ। वैसे, रुपए ने इससे पहले अपना सबसे निचला स्तर नवंबर 2016 में देखा था। तब डॉलर के मुकाबले रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार रुपए का मूल्य 68.80 हो गया था।

आखिर कौन तय रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार करता है रुपए का मूल्य?
हर देश के पास विदेशी मुद्रा का भंडार होता है, जिससे वह अंतरराष्ट्रीय लेन-देन करता है। विदेशी मुद्रा भंडार के घटने और बढ़ने से ही उस देश की मुद्रा की चाल तय होती है। अगर भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में डॉलर, अमेरिका के रुपयों के भंडार के बराबर है तो रुपए की कीमत स्थिर रहेगी। हमारे पास डॉलर घटे तो रुपया कमजोर होगा, बढ़े तो रुपया मजबूत होगा। इसे फ्लोटिंग रेट सिस्टम कहते हैं, जिसे भारत ने 1975 से अपनाया है।

लगातार कमजोर हो रहे रुपए के बीच विदेशी मुद्रा भंडार घटा, दो वर्षों के न्यूनतम स्तर पर

Forex Reserves

रुपये की कीमत तेज़ी से गिर रही है, इसी वजह से 14 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार गिरकर दो साल के निचले स्तर 528.367 अरब डॉलर पर आ गया, जो पिछले सप्ताह की तुलना में 4.5 अरब डॉलर कम है।

आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार पिछले सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 532.868 बिलियन अमरीकी डालर था।

केंद्रीय बैंक के अनुसार भारत की विदेशी मुद्रा संपत्ति (फॉरेन करेंसी असेट्स) जो कि विदेशी मुद्रा भंडार का सबसे बड़ा घटक है, बीते सप्ताह के दौरान 2.828 बिलियन अमरीकी डॉलर घटकर 468.668 बिलियन अमरीकी डॉलर रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार रह गया है।

RBI बैठक और विधानसभा चुनाव नतीजों पर रहेगी बाजार की नजर

RBI, 04 दिसंबर (वार्ता): अमेरिकी फेड रिजर्व के ब्याज दर में बढ़ोतरी रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार की गति धीमी रखने के संकेत और चीन में विरोध के बाद कोविड प्रतिबंधों में ढील दिये जाने की उम्मीद में 63 हजार अंक के नये शिखर पर पहुंचा घरेलू शेयर बाजार मुनाफावसूली का शिकार होने के बावजूद बीते रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार सप्ताह 0.92 प्रतिशत की तेजी हासिल करने में कामयाब रहा और अगले सप्ताह रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार रिजर्व बैंक (RBI) की मौद्रिक नीति समीक्षा के साथ ही विधानसभा चुनाव के नतीजों पर उसकी नजर रहेगी।

बीते सप्ताह बीएसई रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार का तीस शेयरों वाला संवेदी रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार सूचकांक सेंसेक्स 574.86 अंक यानी 0.92 प्रतिशत की रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार तेजी लेकर सप्ताहांत पर 62868.50 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार 183.35 अंक अर्थात 0.99 प्रतिशत की छलांग लगाकर रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार 18696.10 अंक पर रहा। समीक्षाधीन सप्ताह बीएसई की दिग्गज कंपनियों से कहीं अधिक मझौली और छोटी कंपनियों में तेजी रही, जिससे बाजार को बल मिला।

रेटिंग: 4.53
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 372
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *