ट्रेडिंग फॉरेक्स के लाभ

आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक

आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक
दिग्गज निवेशक वॉरेन बफेट का यह मंत्र हमेशा याद रखना चाहिए कि सफल निवेशक को बिजनेस में पैसे लगाने चाहिए, शेयर में नहीं. इसका मतलब यह है कि जिस कंपनी का बिजनेस सफल होगा, उसका शेयर भी देर-सबेर सफल होना ही है. लेकिन अगर बिजनेस सफल नहीं है, तो किसी तात्कालिक आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक कारण से ऊंचाई पर पहुंचा शेयर आखिरकार नीचे आ जाएगा. इसलिए लंबे समय तक निवेश करके अपनी पूंजी को कई गुना बढ़ाना है, तो मल्टीबैगर की तलाश दरअसल एक सफल बिजनेस की तलाश होनी चाहिए.

Multibagger Stocks: आपको भी है कई गुना मुनाफा देने वाले शेयर का इंतजार? इन तरीकों से कर सकते हैं मल्टीबैगर की तलाश

Multibagger Stocks: आपको भी है कई गुना मुनाफा देने वाले शेयर का इंतजार? इन तरीकों से कर सकते हैं मल्टीबैगर की तलाश

शेयर बाजार में हर निवेशक को रहती है एक ऐसे शेयर की तलाश आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक जिसमें लगाए पैसे कुछ ही बरस में कई गुना रिटर्न दे जाएं.

How to Find Multibagger Stocks: शेयर बाजार में पैसे लगाने वाले हर निवेशक को रहती है मल्टीबैगर की तलाश. मल्टीबैगर यानी एक आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक ऐसा शेयर जिसमें लगाए पैसे कुछ ही बरस में दस-बीस-पचास या सौ गुना रिटर्न दे जाएं. देखते ही देखते मालामाल कर दे. लेकिन यह बात अमूमन किसी को पता नहीं होती कि ऐसा शेयर मिलेगा कहां? ऐसे शेयर को पहचानेंगे कैसे?

हाई ग्रोथ स्टॉक आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक ही बन सकता है मल्टीबैगर

सबसे पहली बात तो यह आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक है कि कोई भी शेयर मल्टीबैगर तभी बन सकता है, जब वो न सिर्फ एक हाई ग्रोथ स्टॉक हो, बल्कि इस ऊंची ग्रोथ को लंबे समय तक बरकरार भी रख सके. मिसाल के तौर पर अगर कोई शेयर एक साल में औसतन 12 फीसदी रिटर्न दे रहा है, तो आपने निवेश को 100 गुना करने में उसे 41 साल लग जाएंगे. लेकिन अगर औसत सालाना रिटर्न 16.6 फीसदी हो तो यही काम 30 साल में हो जाएगा. और अगर कहीं सालाना 50 फीसदी रिटर्न देने वाला शेयर आपके हाथ लग गया, तो सिर्फ 11 साल में ही आपका निवेश सौ गुना हो सकता है. लेकिन आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक यह तो आप भी मानेंगे कि लगातार 11 साल तक 50 फीसदी का औसत रिटर्न देने वाला आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक शेयर खोज निकालना लगभग नामुमकिन ही होगा. फिर भी आप किसी ऐसे शेयर की तलाश करने का प्रयास तो कर ही सकते हैं, जिसमें लंबे समय तक बेहतर रिटर्न देने की संभावना हो.

PNB FD Interest Rate: एफडी पर 7.85% ब्याज दे रहा ये बैंक, 600 दिनों के डिपॉजिट पर स्पेशल ऑफर, चेक करें डिटेल

कैसे करें हाई ग्रोथ शेयर की पहचान ?

किसी हाई ग्रोथ शेयर को मुख्य तौर पर दो लक्षणों से पहचाना जा सकता है.

  1. EPS यानी प्रति शेयर आय में बढ़ोतरी – एक ऐसी कंपनी जिसके रेवेन्यू, मार्जिन और मार्केट शेयर लगातार बढ़ रहे हों, अपने निवेशक की पूंजी को भी नई ऊंचाई पर ले जा सकती है. कंपनी के ईपीएस (Earnings Per Share) को देखने से इस ग्रोथ का पता चल सकता है. आम तौर पर कंपनी की ईपीएस का सीधा असर उसके शेयर की कीमत पर पड़ता है. ईपीएस की ग्रोथ का सीधा मतलब है आपकी पूंजी की ग्रोथ.
  2. P/E यानी प्राइस/अर्निंग रेशियो – किसी शेयर का P/E रेशियो हमें बताता है कि मौजूदा कीमतों पर कोई शेयर कितना महंगा या सस्ता है. P/E जितना ज्यादा होगा, शेयर उतना ही महंगा माना जाता है. लेकिन इसके साथ ही यह भी ध्यान में रखना चाहिए कि जिन कंपनियों में ग्रोथ की अच्छी संभावना होती है, उनका P/E रेशियो अक्सर ऊंचा ही होता है. इसलिए P/E रेशियो को हमेशा कंपनी की लंबे समय की संभावनाओं और वित्तीय मजबूती को ध्यान में रखकर ही देखना चाहिए. अगर आप किसी ऐसी कंपनी आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक की पहचान करने में सफल हो जाते हैं, जिसमें ग्रोथ की काफी ठोस संभावना है, लेकिन उसका P/E अभी कम है, तो उसमें निवेश अच्छा रिटर्न दे सकता है.

कंपनी पर कर्ज ज्यादा न हो

बहुत ज्यादा लीवरेज्ड यानी भारी-भरकम कर्ज लेने वाली कंपनी के शेयर का मल्टीबैगर बनना मुश्किल होगा. अगर कंपनी पर कर्ज रहा है, लेकिन उसने अपना कर्ज तेजी से घटाया है, तो यह उसकी वित्तीय हालत में सुधार का संकेत हो सकता है. कंपनी अगर कर्जमुक्त और कैश रिच है, तो उसके बारे में मार्केट सेंटिमेंट अक्सर बढ़िया रहता है. ऐसी कंपनी अपने कारोबार के विस्तार पर आसानी से निवेश कर सकती है और ब्याज का बोझ न होने के कारण उसकी बैलैंस शीट और प्रॉफिटेबिलिटी भी बेहतर रहती है.

उन कंपनियों में मल्टीबैगर साबित होने की ज्यादा संभावना मानी जाती है, जो वित्तीय और कारोबारी रूप से मजबूत हों, लेकिन अभी उनका आकार बहुत बड़ा न हुआ हो. अगर किसी कंपनी का मार्केट शेयर 2-4 फीसदी है, तो उसके शेयर के कई गुना बढ़ने की संभावना, एक 40-50 फीसदी मार्केट शेयर वाली कंपनी से ज्यादा रहती है. ऐसा इसलिए क्योंकि आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक जिस कंपनी का पहले से ही बाजार में दबदबा है, उसके सही वैल्युएशन का अंदाजा तो सभी को रहता है, यानी उसके शेयर की प्राइस डिस्कवरी पहले ही हो चुकी है. ऐसे में उसमें और कई आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक गुना उछाल की संभावना कम रहती है. मल्टीबैगर को पहचानने में सबसे बड़ी चुनौती ही यही है कि आप उस कंपनी की संभावना को उस वक्त पहचान लें, जब ज्यादातर लोगों की नजर उस पर पड़ी ही न हो. तभी तो वो शेयर आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक आपको ऐसे भाव में मिलेगा जो देखते ही देखते कई गुना मुनाफा दिला दे.

किसी कंपनी का शेयर खरीदने से पहले इस तरह चेक करें कि आसानी से चुने मल्टीबेगर स्टॉक वह सस्ता है या महंगा, हमेशा फायदे में रहेंगे

किसी कंपनी का शेयर खरीदने से पहले इस तरह चेक करें कि वह सस्ता है या महंगा, हमेशा फायदे में रहेंगे

शेयर - India TV Hindi News

रेटिंग: 4.67
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 265
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *